To Unleash the bundle creativity of student it offers a wide range of activities. There activities help to imbibe and develop the power of imagination, reasoning, aesthetic sense and encourages co-operation. There activities are spread over throughout the year. Open air session, is example of this. During open air session, pupil teachers perform many activities such as- Beautification and Chramdan, community participation, work experience related with some theory course and cultural and literary activities and games. In the end of the session cultural week is celebrated, winners of the activities are awarded with prizes on this occasion.

(i) OPEN AIR SESSION

(ii) EDUCATIONAL TOUR

वाद विवाद प्रतियोगिता

अकलंक कालेज आफ एज्यूकेशन में प्रत्येक माह होने वाली गतिविधियों के अन्तर्गत इस माह 15 दिसंबर 2018 को वाद विवाद प्रतियोगिता का आयोजन किया गया।

डा. इन्दु बाला शर्मा एवं योगेश शर्मा निर्णायक रहे। मंच संचालन दीपक पांचाल एवं सिमरन ने किया।

प्रतियोगिता के परिणाम इस प्रकार रहे –

पक्ष

शुभम शर्मा (बी.एड.)                                      –                             प्रथम

सिमरन (बी.एड.)                                            –                             द्वितीय

विपक्ष

आयुषी यादव (बी.एससी. बी.एड.)                   –                             प्रथम

पवन कुमार लववंशी (बी.एड.)                         –                             द्वितीय

कविता पाठ प्रतियोगिता

14 सितम्बर 2018 हिन्दी दिवस के उपलक्ष में अकलंक काॅलेज आॅफ एज्यूकेशन में कविता पाठ प्रतियोगिता का आयोजन किया गया। इस अवसर पर निर्णायक के रूप श्री बी. एल. मेहरा एवं सुश्री मिशा शर्मा ने प्रतिभागियों का आंकलन किया। वरिष्ठ व्याख्याता श्री बी. एल. मेहरा ने हिन्दी भाषा के उद्भव एवं विकास पर प्रकाश डालकर मानव जीवन में हिन्दी भाषा का महत्व बताया। कार्यक्रम के अन्त में सुश्री मिशा शर्मा ने दैनिक जीवन में हिन्दी की जीवन्तता का महत्व बताया। प्रतियोगिता में मोनिश हयात प्रथम, शानु परेता द्वितीय एवं भारती सोनी तृतीय स्थान पर रहे।

आध्यात्मिक कार्यक्रम का आयोजन

शिक्षा शरीर मन आत्मा का विकास करती है। इसी को चरितार्थ करने के लिए प्रजापिता ब्रह्मा कुमारी ईश्वरीय विश्वविद्यालय एवं अकलंक काॅलेज आॅफ एज्यूकेशन के संयुक्त तत्वावधान में महाविद्यालय के प्रांगण में आध्यात्मिक कार्यक्रम का आयोजन किया गया। इस अवसर पर दादाबाड़ी सेवा केन्द्र प्रभारी सरस्वती बहन ने बताया कि शिक्षा में सह-आध्यात्मिक मूल्यों का समावेश अति आवश्यक है। इस अवसर पर सरस्वती बहन ने समस्त शिक्षक-शिक्षिकाओं को रक्षासूत्र बांधकर रक्षाबंधन का महत्व बताया।

TEACHER’S DAY CELEBRATION

अकलंक काॅलेज आॅफ एज्यूकेशन के प्रशिक्षणार्थयों द्वारा 5 सितम्बर 2018 को शिक्षक दिवस का आयोजन किया गया। इस अवसर पर प्रशिक्षणार्थियों ने सभी शिक्षकों को पुष्पगुच्छ देकर सम्मान किया। प्राचार्या डा. आशा शर्मा ने शिक्षक दिवस का महत्व बताकर प्रशिक्षणार्थियों को आदर्श शिक्षक बनने हेतु प्रेरित किया।

INDEPENDENCE DAY CELEBRATION

Walk O Run

स्वास्थ्य मानव जीवन में कितना महत्व रखता है, इसका प्रत्यक्ष प्रमाण 15 फ़रवरी 2018 को पूरे कोटा ने Walk O Run कार्यक्रम को सफल बनाकर दिया। प्रशिक्षणार्थियों में स्वास्थ्य के प्रति जागरुकता लाने के उद्देश्य से अकलंक कॉलेज ऑफ़ एज्यूकेशन की व्याख्याता मिशा शर्मा सहित प्रशिक्षणार्थियों ने इसमें भाग लिया।

‘ राज्य आपदा मोचन बल द्वारा प्रशिक्षण ’

‘प्राकृतिक आपदा और बचाव’ विषय पर 24 फ़रवरी 2018 को अकलंक कॉलेज ऑफ़ एज्यूकेशन में प्रशिक्षणार्थियों को राज्य आपदा मोचन बल द्वारा प्रशिक्षण दिया गया।
भूकंप से बचाव, ह्रदयाधात पर प्रथम दृष्ट्या उपचार कैसे किया जाए ? यदि किसी छोटे बच्चे के गले में कुछ अटक जानें तो उसका प्राथमिक उपचार कैसे दिया जाए ? इसका प्रशिक्षण व्यवहारिक रूप में दिया गया।

 ‘आश्रय वृद्धाश्रम भ्रमण’

दिनांक 31/03/2018 को अकलंक कॉलेज ऑफ एज्यूकेशन द्वारा प्रशिक्षणार्थियों को ‘आश्रम’ वृद्धाश्रम का भ्रमण करवाया गया। जहां सभी प्रशिक्षणार्थी वृद्धजनों से रूबरू हुए, उनके विचारों से परिचित हुए। दो पीढ़ियों के मध्य विचारों की जिस खाई के कारण वृद्धाश्रम जैसी संस्थाएं अस्तित्व में आती हैं, महाविद्यालय द्वारा उस खाई को पाटने का प्रयास किया गया। देश की नई पीढ़ी को अपने कर्तव्य का एहसास हुआ।प्रशिक्षणार्थियों ने बुजुर्गों के साथ भजन गाकर, कहानियां सुनकर उनका स्नेह एवं आशीर्वाद प्राप्त किया। प्रेम और करुणा की भावना से सभी प्रशिक्षणार्थियों व व्याख्याताओं का हृदय ओतप्रोत हो गया।